Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest


 

 


 

 

 


राज्य सरकार आयुष चिकित्सा पद्धति के विकास को लेकर लगातार प्रयत्नशील हैं : सुशील मोदी

पटना सिटी (न्यूज सिटी)। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आज पटना सिटी का दौरा कर बहादुरपुर के बाजार समिति स्थित श्री श्याम सेवा ट्रस्ट में...

पटना सिटी (न्यूज सिटी)। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आज पटना सिटी का दौरा कर बहादुरपुर के बाजार समिति स्थित श्री श्याम सेवा ट्रस्ट में विश्व आयुर्वेद परिषद द्वारा आयोजित "एलर्जी" विषय पर आयोजित सेमिनार में भाग लिया। इस मौके पर आयुर्वेद चिकित्सकों ने जहां इस बीमारी पर अपने-अपने विचार रखें, वही सेमिनार के दौरान आयुष चिकित्सा की दशा और दिशा पर भी गंभीर चर्चा की गयी।

[embed]https://youtu.be/KCBfE3QXHsA[/embed]

 
इस मौके पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने आयुर्वेद को भारत की सबसे प्राचीन चिकित्सा पद्धति बताते हुए कहा कि राज्य सरकार इस चिकित्सा पद्धति के विकास को लेकर लगातार प्रयत्नशील है और इसे लेकर वह कई योजनाओं पर काम कर रही है। उप मुख्यमंत्री का कहना था कि केंद्र सरकार ने इस चिकित्सा पद्धति के विकास को लेकर आयुष मंत्रालय का गठन किया है। उनका कहना था कि केंद्र और राज्य सरकार ने आयुष चिकित्सकों को एलोपैथिक चिकित्सकों के समकक्ष मान्यता प्रदान की है।

[video width="640" height="368" mp4="https://www.newscity.co.in/wp-content/uploads/2020/01/VID-20200104-WA0015.mp4"][/video]

 
उपमुख्यमंत्री का कहना था कि राज्य सरकार ने अनुबंध पर बहाल आयुष चिकित्सकों को एलोपैथिक चिकित्सकों के बराबर 44 हजार प्रतिमाह मानदेय देने का निर्णय लिया है, जिसे मंत्रिपरिषद ने भी अपनी मंजूरी दे दी है। इस मौके पर भारतीय केंद्रीय चिकित्सा परिषद के अध्यक्ष डॉ जयंत देव पुजारी, विश्व आयुर्वेद परिषद के अध्यक्ष डॉ बजेंद्र मोहन गुप्ता के अलावे कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

No comments