Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest


 

 


 

 

 


पटना में सरकारी कार्यो के कारण सड़क में हुए गड्ढे को बरसात से पहले कराए मरम्मत : पप्पू वर्मा

पटना (न्यूज़ सिटी)। पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा ने राज्य सरकार से मांग करते हुए कहा कि राजधानी पटना के सभी बड़े नाले एवं...


पटना (न्यूज़ सिटी)। पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा ने राज्य सरकार से मांग करते हुए कहा कि राजधानी पटना के सभी बड़े नाले एवं नहरों की सफाई में तेजी लाते हुए व पाइप बिछने के कारण हो चुके सड़क में जहां-तहां गड्ढे हो चुके है। इसको लेकर राज्य सरकार से माँग करते हुए कहा कि सरकार अपने स्तर से जांच करवा कर वैसे सड़को को चिन्हित करें और बरसात से पहले मरम्मत कर दुरुस्त कराने के लिए संबंधित अधिकारी को निर्देश दे।






https://youtu.be/TJbq0qd8GiM




श्री वर्मा ने कहा कि पिछले साल वर्षा के कारण नहर एवं नालों की सफाई के दावों के बावजूद भी पूरे पटना के अधिकांश शहर वासियों को भीषण जल जमाव का सामना करना पड़ा था। जलजमाव के कारण पूरे पटना के हालात ऐसी हो गई थी लोगों को घरों से भी निकलना मुश्किल हो गया था जो सबसे प्रभावित क्षेत्र था राजेंद्र नगर बाजार समिति, कंकड़बाग, हनुमान नगर, नाला रोड, बाईपास के नजदीक बसा हुआ कॉलोनियां इत्यादि स्थानों पर जलजमाव के वजह से शहरवासियों को लाखों रुपए की घर के सामग्री फर्नीचर, किताबें, मोबाइल, फ्रिज,कूलर, महंगी गाड़ियां इत्यादि कीमती सामान जलजमाव में डूब जाने के कारण बर्बाद हो गया था।









वर्मा ने कहा कि महीनों तक इन क्षेत्र के लोगों को बिना लाइट बदबूदार पानी एवं गंदगी के बीच अपनी जिंदगी को गुजारनी पड़ी थी। लोगो के पास सब कुछ रहते हुए भी लोगों को खाने-पीने मैं परेशानियों के साथ-साथ कई प्रकार के समस्या को झेलते हुए अपने घरों में कैद रहना पड़ा था। कई लोगों को जलजमाव के कारण सही समय पर अस्पताल नहीं जाने के कारण अपने जीवन से भी हाथ धोना पड़ा। यह सब दृश्य व मंजर ध्यान में आते ही जलजमाव में प्रभावित क्षेत्र के लोग सिहर उठते हैं। कई लोगों को महीनों तक अपने अपने घरों को छोड़कर दूसरे स्थानों पर रहने को मजबूर होना पड़ा था। इसलिए समय रहते हुए ही इन सभी समस्याओं पर राज्य सरकार को काम में तेजी दिखाने की आवश्यकता है। वैश्विक महामारी के समय अगर शहर वासियों को जलजमाव का भी सामना करना पड़ा तो स्थिति बहुत ही बदतर हो जाएगी। सरकार को वैश्विक महामारी से लड़ते हुए जलजमाव वाले क्षेत्रों पर पूरा फोकस व सरकारी मशीनरीयो को युद्ध स्तर पर काम में लगाना होगा। ज्ञात हो कि पिछले वर्ष जलजमाव के दोषियों को अभी तक सजा नही मिली है सिर्फ खानापूर्ति के नाम पर कुछ पदाधिकारीयो को निपटाया गया था और ना ही लाखों रुपए की नुकसान हो चुके लोगो को मुआवजा इसलिए सरकार को उच्च पदाधिकारियों का टीम का गठन करके जलजमाव वाले क्षेत्रों में ताकत झोंकनी होगी।


No comments