भारतीय रेलवे का बड़ा फैसला, चीनी कंपनी के साथ 471 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट किया रद्द

0
225

सेंट्रल डेस्क, न्यूज़ सिटी। भारत-चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर हुए खूनी झड़प के बीच भारत सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। इस बार फैसला रेलवे मंत्रालय, नई दिल्ली द्वारा ली गई है। जहां रेलवे उपक्रम डेडिकेटेड फ्रेट कोरिडोर कॉरपोरेशन लिमिटेड ने चीनी फर्म बीजिंग नेशनल रेलवे रिचार्ज एंड डिजाइन इंस्टीट्यूट ऑफ सिग्नल एंड कम्युनिकेशन कंपनी लिमिटेड के साथ करार कॉन्ट्रैक्ट को रद्द कर दिया है।

दरअसल चीनी कंपनी को भारतीय रेलवे द्वारा बीते जून 2016 में कानपुर से दीनदयाल उपाध्याय सेक्शन के बीच 417 किलोमीटर के सेक्शन में सिग्नलिंग और टेलीकॉम का काम कॉन्ट्रैक्ट के तहत दिया गया था। यह काम 471 करोड़ रुपए का था। परंतु रेलवे के मुताबिक, चीनी फॉर्म को कॉन्ट्रैक्ट के 04 साल बीत जाने के बावजूद भी वे महज 20 दिन ही काम कर पाई थी।

हालांकि बीते बुधवार यानी 17 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय सेना के 20 जवानों के शहीद होने पर चीन को चेतावनी देते हुए कहा था कि चीन की धोखेबाजी और कायराना हरकत की कीमत उसे चुकानी होगी। शायद इसी कारणों से रेलवे ने इस कदम को भारत-चीन के बीच चल रहे तनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। वहीं चीनी कंपनी द्वारा कॉन्ट्रैक्ट रद्द किए जाने पर कॉर्पोरेशन ने चीनी कंपनी द्वारा बेहद धीमी गति से काम किए जाने का हवाला दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here