आत्मनिर्भर बनाने के लिए गोपालकों के लिए केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं का हुआ शुभारंभ

0
280

पटना सिटी (न्यूज़ सिटी) । पशुपालन और डेयरी विभाग,भारत सरकार द्वारा बिहार सहित देशभर के गोपालकों को समृद्ध और आत्मनिर्भर बनाने के लिए व्यापक तकनीकी पहलो का शुभारंभ कार्यक्रम में ग्रामीणों-किसानों ने भाग लिया। किसान मोर्चा की ओर से गुरुगोविंद पथ स्तिथ कुमार होम्स संस्थान में बड़े एलईडी स्क्रीन की व्यवस्था कर सोसल डिस्टेंस का पालन करते हुए दर्जनों ग्रामीण- किसान उपस्थित होकर कार्यक्रम को देखा और प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी के संबोधन को सुना।
प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों के लिए ई गोपाला ऐप लॉन्च किया जिसमें उच्च कोटि के वीर्य भ्रूण और पशु की उपलब्धता की जानकारी और खरीदने की सुविधा मिलेगी।
डेयरी किसानों की समृद्धि के लिए पशु उत्पादकता बढ़ाने का ऑनलाइन डिजिटल माध्यम प्राप्त होगा।

आयुर्वेदिक, पशु चिकित्सा और कम लागत की औषधि उपचार की जानकारी मिलेगी।

पूर्णिया में पशु वीर्य केंद्र का उद्घाटन किया ।

बिहार में पहली बार बरौनी से अत्याधुनिक नस्ल सुधार तकनीकी की शुरुआत की गई।

बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय पटना में आईवीएफ लैब का उद्घाटन करते हुए बताया इसमें पढ़ने बाले छात्र-छात्राओं को 2-2 हजार प्रति माह सहयोग राशि दी जाएगी।

बिहार के गोपालको के लिए केंद्र सरकार का फोकस देसी नस्लों का विकास और संरक्षण कैसे हो उसके लिए 186.22 करोड़ रुपए की राशि जारी की गई ।डेयरी क्षेत्र के विकास के लिए 299.08 करोड़ रुपए की राशि जारी की गई। पशुधन स्वास्थ्य और रोग नियंत्रण के लिए 114. 54 करोड़ रूपया जारी करते हुए उन्होंने 2021 सदी तक हमारे पशुपालक मत्स्य पालक आत्मनिर्भर बनकर एक ताकत के रूप में उभरे।


किसान मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष सह भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद सदस्य संजीव कुमार यादव ने उपस्थित किसानों को बताया कि इन योजनाओं से हमसब आत्मनिर्भर तो बनेंगे साथ ही किसानों का आत्मबल भी बढ़ेगा। जय किसान,जय विज्ञान,जय अनुसंधान को अपनाकर लोकल से वोकल होकर स्थानीय घरेलू प्रोडक्ट को आगे बढ़ाने में हमें ताकत भी मिलेगी।श्वेत क्रांति और नीली क्रांति (मत्स्य पालन)गति को बल मिलेगा।
कार्यक्रम में चौक मंडल अध्यक्ष सनी यादव,सुरेश सिंह पटेल,श्यामसुंदर शर्मा,रघु राय, मनीष कुमार,संजय अवस्थी,राजाराम शर्मा, अरुण उपाध्याय, मनोज यादव,दीपक कुमार,विकास कुमार, राजेन्द्र पासवान सहित अन्य किसान उपस्थित हुए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here