Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest

 









 

जदयू एमएलसी नीरज कुमार ने कहा - राजद और उसके नेता तेजस्वी यादव सत्ता के लोभी हैं

पटना (न्यूज सिटी)। जदयू एमएलसी नीरज कुमार ने आज पटना में पत्रकारों के साथ डिजिटल वार्ता करते हुए बिहार जनता से आग्रह किया की जदयू ने बिहर क...


पटना (न्यूज सिटी)। जदयू एमएलसी नीरज कुमार ने आज पटना में पत्रकारों के साथ डिजिटल वार्ता करते हुए बिहार जनता से आग्रह किया की जदयू ने बिहर कि तस्वीर बदली है, अब आशीर्वाद देगी तो तस्वीर भी बदल देंगे। नीरज कुमार ने कहा की शराबबंदी गांधी जी, कर्पूरी ठाकुर, मोरारजी देसाई, का सपने था, जिसको मुख़्यमंत्री ने ज़मीन पे उतारा है और जदयू ने समाज के सारे तबको के लिये काम किया है।





उन्होंने राजद और उसके नेता तेजस्वी यादव पर तीखे हमले करते हुए कहा कि उनको सत्ता का लोभी बताया। जो व्यक्ति अपने गाँव के लोगो की जमीन नौकरी के नाम पर हड़प लेता है, वो युवाओं को नौकरी देने की बात करे, इससे बड़ा विरोधाभास कुछ नहीं हो सकता।





“आप तो अपने परिजनों का जमीन तक हड़प लेते हैं नौकरी देने के एवज में। क्यों नहीं लौटा देते मंगरु यादव की जमीन? इतने मॉल्स के मालिक होने के बावजूद आप अपने परिजनों तक का जमीन लौटा नहीं पा रहे, युवाओं को नौकरी क्या दीजियेगा ?"





साथ ही उन्होंने कहा, “ये जो तेजस्वी यादव इतनी नौकरियों की बात करते हैं, ये बताये की झारखण्ड चुनाव में वो जिनकी सरकार में शामिल है, उन्होंने वादा किया था किस सभी रिक्त पद पैहले 06 महीने के कार्यकाल में भर देंगे। क्या आज वो श्वेत पत्र जारी कर के कह सकते हैं की उन्होंने अपन वो वादा पूरा कर दिया? तो फिर ये बिहार के युवाओं को क्यों भरमा रहे?”





महागठबंधन पे हमला करते हुए नीरज कुमार ने कहा, "एक तरफ NDA का गठबंधन है दूसरी तरफ एक ऐसा गठबंधन है जिसका खौफनाक मंज़र विभिन्न जिलों में देखा गया है।“ इसके साथ में भोजपुर में एकवारी, अरवल में लक्ष्मणपुर- बाथे जैसे नरसहारों का ज़िक्र करते हुए तेजस्वी को समाज के अंदर हिंसा के पक्षधर कहा।





राजद ने क्या फिर से ग्रामीण इलाकों में असहंति फ़ैलाने के लिए माले सरीके दलों से गठबंधन किया है? अरुण यादव और राजबल्लभ यादव जैसे नेता जो बलात्कार के आरोपी हैं, उनके परिजनों को टिकट देने पर राजद को घेरते हुए नीरज जी ने कहा, " राजद की यही कुसंगति है की वो बलात्कार जैसे जघन्य अपराध में लिप्त अपने नेताओं को सहबाला बना कर रखता है।"





नीरज कुमार ने सरकारी नौकरियों में महिलाओं के लिए आरक्षण और साइकिल योजना की उपलब्धि गिनाई। साथ ही शराबबंदी को भी नीतीश सरकार की कामयाबी बताया। उन्होंने कहा, "बड़े-बड़े महापुरुष जैसे की कर्पूरी ठाकुर, श्री कृष्ण सिंह और नरसिम्हा राव ने शराब बंदी की वकालत करते थे, नीतीश जी ने उनके सपने को साकार करने की कोशिश की।"





तेजस्वी पर तंज कसते हुए नीरज ने कहा, "सड़कें नहीं बनाएंगे, बिजली नहीं पहुचायेंगे तो सिर्फ सत्ता का लोभ भोगेंगे !" साथ ही उन्होंने अपने हमले को धार देते हुए तेजस्वी यादव के हालिया बयान पर कहा, "शपथ जाति के नाम पर नहीं संविधान के नाम पर लेते हैं । हम लोग शपथ लेते है कि किसी जाति या धर्म की चर्चा नहीं करेंगे लेकिन ये क्या क्या बोलते रहते है ? इनकी मंशा दिखती है इनके शब्दों में ही। सासाराम के डेहरी में क्या बोल दिए है इसका अंदाज़ा भी है इनको ? क्या बिजली, सड़क या कोई भी सुविधा आप जाति देखा कर देंगे? पिताजी भूरा बाल साफ़ करने कहते थे और उनके लाल रघुवंश बाबू को एक लोटा कह देते है, ऐसे लोग समाज का विकास क्या करेंगे जिनकी मंशा सिर्फ और सिर्फ समाज को बाटने की है । हमने बेटी को आरक्षण दिया तो जाति देखा था क्या? हर बेटी को सशक्तः किया हमने।"





इसके आगे उन्होंने लालू-राबड़ी की सरकार पर तल्ख़ अंदाज में कहा, "आंकड़े देखे है कभी आपने? एक भी इंजीनियरिंग कॉलेज था क्या? आज हर ज़िले में इंजीनियरिंग कॉलेज है। टूरिस्ट लोग आते थे क्या पहले बिहार में? कोई जानता भी था क्या की बिहार आध्यात्म का केंद्र भी है? बिहार की बेटी बिहार छोड़ कर सब जगह नर्सिंग की सेवा देती थी। एक भी नर्सिंग कॉलेज था क्या पहले? हमने 28 पारा मेडिकल कॉलेज खोले। सन 1990 से 2005 तक में एक भी मेडिकल कॉलेज तक नहीं खुला। बच्चों को कभी प्रोत्साहित करने को क्या किया आपने?"





जनता से अनुरोध करते हुए उन्होंने कहा, " लालू-राबड़ी सरकार ने सम्पत्ति क्रेडिट कार्ड योजना चलाया और नीतीश जी ने स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना। हमने 98721 स्टूडेंट्स को 1100 करोड़ से ज्यादा लोगों को छात्रवृति दी गयी। नीतीश जी और एनडीए की सरकार ने मिल कर जो बुनियादी बदलाव किया हैं उसको लोग महसूस करते है. अब कोई उस दौर में जाना नहीं चाहता है। जनता एक तरफ देश में एक मात्रा धारा 420 का आरोपी नेता तेजस्वी है और दूसरी तरफ विकास पुरुष, बिहारियों को इस बात को ध्यान में रखकर ही नेता चुनना होगा।"


No comments