Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest



चुनाव पूर्व आनंद मोहन भागलपुर केंद्रीय कारा शिफ्ट किए गए, पवन राठौर ने बोला अमानवीय व्यवहार

पटना (न्यूज सिटी)। सहरसा मंडल कारा में बंद पूर्व सांसद आनंद मोहन को गत 20 अक्टूबर के रात 2बजे अचानक भागलपुर केंद्रीय कारा स्थानांतरण किया गय...


पटना (न्यूज सिटी)। सहरसा मंडल कारा में बंद पूर्व सांसद आनंद मोहन को गत 20 अक्टूबर के रात 2बजे अचानक भागलपुर केंद्रीय कारा स्थानांतरण किया गया। ये जानकारी पूर्व सांसद आनंद मोहन के करीबी पवन राठौर ने दी। आगे पवन राठौर ने कहा कि जेल प्रशासन व राज्य सरकार द्वारा बिना पूर्व सूचना के पूर्व सांसद आनंद मोहन को रात को 2 बजे अचानक भेजने की प्रक्रिया अमानवीय है। इसकी कड़ी से कड़ी निंदा करते हुए तीखी भर्त्सना करता हूँ। जबकि पूर्व सांसद श्री मोहन की तबीयत ठीक नहीं है, जिसको देखते हुए स्थानीय जेल प्रशासन का मेडिकल बोर्ड ने 20 दिनों तक पूर्ण रूप से आराम करने की सलाह दी है। इसके बावजूद अचानक दूसरे जेल में भेजना प्रशासन और सरकार का कहाँ तक उचित है? प्रशासन का यह हरकत आनंद मोहन पर जुल्म की पराकाष्ठा है। प्रशासन को दूसरे जेल ही भेजना था तो पूर्व सांसद की गरिमा और उम्र का ख्याल करते हुए सूचना देकर दिन के उजाले में भेजना था ना कि गहरी रात के अंधेरे में।





पवन राठौर ने कहा कि प्रशासन और सरकार के इस अमानवीय व्यवहार को बिहार की जनता और आनंद मोहन के समर्थक देख रहा है। लोकतंत्र में जनता मालिक होती है और सहरसा, शिवहर सहित पूरे बिहार में हो रहे चुनाव में आनंद समर्थक मुहतोड़ जबाब देगी। मालूम हो कि पूर्व सांसद आनंद मोहन के बेटे चेतन आनंद शिवहर से और पत्नी लवली आनन्द सहरसा से राजद से चुनाव लड़ रही है। शिवहर और सहरसा की जनता ने पूरी तरह से चुनाव में जीताने का मन बना लिया है जिससे वर्तमान सरकार की नींद उड़ गई है और सत्ताधारी दल घबराकर आनन्द मोहन के समर्थकों का मनोबल तोड़ने के लिए आनंद मोहन को रातों-रात दूसरे जेल भेज दिया। सरकार का यह कायराना हरकत आनंद मोहन के पूरे बिहार भर के समर्थक और जनता बर्दाश्त नहीं करेगी।


No comments