Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest

 









 

अगले 5 वर्षों में आत्मनिर्भर होगा बिहार : बशिष्ठ

पटना (न्यूज सिटी)। बिहार प्रदेश जदयू के अध्यक्ष श्री बशिष्ठ नारायण सिंह ने आज तीसरे व अंतिम चरण का प्रचार खत्म होने के बाद जारी बयान में कहा...


पटना (न्यूज सिटी)। बिहार प्रदेश जदयू के अध्यक्ष श्री बशिष्ठ नारायण सिंह ने आज तीसरे व अंतिम चरण का प्रचार खत्म होने के बाद जारी बयान में कहा कि पहले दो चरणों की तरह तीसरे चरण में भी बिहार की जनता समान रूप से उत्साहित है और यह साफ हो चुका है कि श्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में एक बार फिर बड़े बहुमत से एनडीए की सरकार बनने जा रही है।





श्री बशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि बिहार की जनता इस बात को हरगिज नहीं भूल सकती कि पिछले 15 वर्षों में हमने बिहार को किस तरह जंगलराज की खाइयों से निकालकर एक समृद्ध और समुन्नत बिहार को गढ़ा है। बिजली, सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा और महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में काफी काम हुए हैं, आगे और भी होंगे। अगले 5 वर्षों में युवाओं को रोजगार, किसानों के खेत तक पानी और छोटे-बड़े उद्योगों के जरिए आत्मनिर्भर बिहार की परिकल्पना को साकार रूप देंगे, यह वादा है। सात निश्चय-2 विकासशील बिहार को विकसित बिहार बनाने का रास्ता तैयार करेगा।





श्री सिंह ने कहा कि श्री नीतीश कुमार के शासनकाल में इन्फ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र मेंलगातार प्रयास हुए हैं और काम का माहौल बना है। आज बिहार रोजगार के अवसर तैयार करने की मशीनरी के रूप में तैयार होने को खड़ा है। आगामी वर्षों में कुटीर उद्योग, लघु उद्योग, मिलों, कारखानों का जाल बिछाने का ब्लू प्रिंट हमने तैयार किया हुआ है। इस उद्यम में केन्द्र सरकार भी भरपूर मदद दे रही है। केन्द्र और राज्य सरकार के सम्मिलित प्रयासों से रोजगार के प्रचुर अवसर पैदा होंगे।





श्री सिंह ने कहा किराज्य में औद्योगिक विकास एवं अधिक रोजगार के अवसर पैदा करने के उद्देश्य से नई संशोधित औद्योगिक प्रोत्साहन नीति 2020 लागू की गई है। यहां 89 प्रतिशत लोग गांवों में निवास करते हैं और 76 प्रतिशत लोग अपनी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर हैं। इसको देखते हुए कृषि आधारित उद्योगों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से बिहार कृषि निवेश प्रोत्साहन नीति 2020 की स्वीकृति दी गई है। इसमें कृषि संबंधित उद्योगों के लिए औद्योगिक प्रोत्साहन नीति के अंतर्गत देय लाभ के अतिरिक्त कैपिटल सब्सिडी देने का प्रावधान किया गया है। इसी तर्ज पर काष्ठ आधारित उद्योगों के प्रोत्साहन हेतु नीति बनाई गई है। उन्होंने कहा कि कृषि रोडमैप से किसानों के जीवन-स्तर में पहले ही गुणात्मक परिवर्तन आ चुका है। कृषि कार्य के लिए बिजली दर को घटाकर 65 पैसे प्रति यूनिट कर दिया गया है और अब सिंचाई के लिए हर खेत तक पानी पहुंचाने का संकल्प लिया गया है।इन तमाम प्रयासों से बिहार को नई गति मिलेगी।





श्री सिंह ने कहा कि भारी उद्योगों के साथ ही मध्यम, लघु एवं कुटीर उद्योगों को भी हम समान रूप से आगे लेकर चलेंगे। हम इस बात को नजरअंदाज नहीं कर सकते कि जितनी लागत से हम एक भारी उद्योग लगाते हैं, उतनी ही लागत में हम मध्यम उद्योगों के माध्यम से 30 प्रतिशत अधिक लोगों को और लघु एवं कुटीर उद्योगों के माध्यम से 90 प्रतिशत अधिक लोगों को लाभान्वित कर सकते हैं।





श्री सिंह ने आगे कहा कि हम बुनियादी ढांचे के आधार पर रोजगार और नौकरी की बात करते हैं। हम ठोस आश्वासन देते हैं और उसे पूरा करके दिखाते हैं। जमीनी हकीकत को जाने बिना झूठा आश्वासन देना अवाम को ठगना है। बिहार की जनता तय कर चुकी है कि वो श्री नीतीश कुमार जैसे कर्मयोगी के साथ ही आगे की विकास-यात्रा करेगी।






No comments