Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest



BJP सांसद की CM नीतीश से अपील, शराबबंदी कानून में करें संशोधन..

पटना (न्यूज़ सिटी)। बिहार में एक बार फिर से एनडीए की सरकार बनने जा रही है जिसमें मुख्यमंत्री का चेहरा नीतीश कुमार बनेंगे। इसी बीच बीजेपी सांस...


पटना (न्यूज़ सिटी)। बिहार में एक बार फिर से एनडीए की सरकार बनने जा रही है जिसमें मुख्यमंत्री का चेहरा नीतीश कुमार बनेंगे। इसी बीच बीजेपी सांसद डॉ• निशिकांत दुबे के एक ट्वीट से लोगों को शराबबंदी कानून में ढिलाई देने को लेकर एक मौका मिल गया है।






https://twitter.com/nishikant_dubey/status/1327103661697241088?s=20




बीजेपी सांसद डॉ• निशीकांत दुबे ने ट्विटर पर ट्वीट कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मांग करते हुए लिखा है की " बिहार के मुख्यमंत्री @NitishKumar जी से आग्रह है कि शराब बंदी में कुछ संशोधन करें, क्योंकि जिनको पीना या पिलाना है वे नेपाल, बंगाल, झारखंड, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ का रास्ता अपनाते हैं। इससे राजस्व की हानि, होटल उद्योग प्रभावित तथा पुलिस, एक्साइज भ्रष्टाचार को बढ़ावा देते हैं।"





हालांकि ट्वीट को तेजी से लोगों द्वारा रिट्वीट किया जा रहा है। लोग रिट्वीट कर लिख रहे हैं कि सांसद की मांग पर बिहार के मुख्यमंत्री को एक बार जरूर विचार करना चाहिए। वही ऋषि पांडेय ने भी सांसद महोदय के ट्वीट के जवाब देते हुए कहा कि "पूर्ण शराबबंदी लागू करना सम्भव नहीं हैं, हमलोगो ने विगत पाँच वर्षों में इसको देखा ,."






https://twitter.com/RishiPandey007/status/1327117491198312448?s=20




वही रंजन यादव ने भी सांसद निशिकांत दुबे के ट्वीट के जवाब देते हुए कहा कि " अपनी इस गलती को मानते हुए बिहार में शराब बंदी खत्म किया जाए, पहले ही बिहार से शिक्षा में चिकित्सा में बहुत पैसा दूसरे प्रदेशो में जाता रहा है, अब शराब बंदी कि वजह से दूसरे राज्यो में पैसा जा रहा है, साथ साथ जनता का शोषण भी ही रहा है,अतः पुनर विचार करे। निशिकांत दुबे जी का सुझाव सही हैं इसमें प्रशासनिक दृष्टिकोण से व्यावहारिक क़ानूनी संशोधन करना चाहिए।ज़्यादा जोड़ जागरूकता पर हो। शिक्षा विभाग युवा पीढ़ी को जागरूक बनाए।"





हालांकि बिहार में शराबबंदी कानून को लेकर सांसद निशिकांत दुबे के ट्विटर हैंडल पर सैकड़ों की संख्या में फीडबैक लोगों द्वारा दिया जा रहा है। लोगों ने भी माना है कि बिहार में शराबबंदी कानून सिर्फ कानूनी दायरे के तहत ही बंद है। लेकिन अवैध धन उपार्जन के मामले में शराब तस्करी का मामला काफी ज्यादा फल फूल रहा है।


No comments