Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest


 


ब्रजनंदन बाबू की तीसरी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन

पटना (न्यूज सिटी)। ब्रजनंदन बाबू एक विचार के तत्वावधान में रविवार को कदमकुआं स्थित वंशीकुंज (पुरानी अरबिन्द महिला कॉलेज) के प्रांगण मे पत्रक...


पटना (न्यूज सिटी)।
ब्रजनंदन बाबू एक विचार के तत्वावधान में रविवार को कदमकुआं स्थित वंशीकुंज (पुरानी अरबिन्द महिला कॉलेज) के प्रांगण मे पत्रकारिता जगत के स्तंभ, वरिष्ठ पत्रकार, आज अखबार के विशेष संवाददाता रहे स्व. ब्रजनंदन जी के तीसरी पुण्यतिथि के पूर्व संध्या पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।कार्यक्रम की अध्यक्षता ब्रजनंदन बाबू एक विचार के संयोजक सह राजद प्रदेश सचिव प्रमोद कुमार सिन्हा ने किया तथा संचालन अधिवक्ता अमिताभ ऋतुराज ने किया। सर्वप्रथम इस कार्यक्रम मे आए हुए अतिथियों ने उनके चित्र पर माल्यार्पण और पुष्पांजलि अर्पित कर भावभीनी श्रद्धांजलि दी। 

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बिहार सरकार के पूर्व मंत्री श्री शिवचंद्र राम ने कहा कि ब्रजनंदन जी बिहार के एक महान पत्रकार एवं प्रसिद्ध समाजसेवी थे। जिनमे इतनी वरिष्ठता के वाबजूद उनमें कोई दिखावा की प्रवृति नहीं थी। उन्होंने कहा कि सही अर्थों में ब्रजनंदन जी कार्यकर्ताओं और संघर्ष कर रहे युवाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता देने वाले पत्रकार थे और उन्हें बढ़ावा देते रहने के कारण वे सभी के बीच गार्जियन के रूप में लोकप्रिय थे। श्री राम ने कहा कि गरिमामय व्यक्तित्व के धनी ब्रजनंदन जी अपने आप में पत्रकारिता के एक सम्पूर्ण इतिहास थे। उन्होंने कहा कि ब्रजनंदन बाबू आज के पत्रकारिता से अलग लोगों को निःस्वार्थ भाव से सहयोग करने के लिए सदैव तत्पर रहते थे। उन्होंने कहा कि वे एक जुझारू तथा कलम से समझौता नहीं करने वाले पत्रकारों में प्रमुख थे। श्री शिवचंद्र राम ने सरकार से मांग की कि ब्रजनंदन बाबू की आदमकद प्रतिमा पटना के किसी पार्क मे लगाया जाए। वहीं जदयू के वरिष्ठ नेता और सचिव सुमन कुमार मल्लिक ने अपने बड़े भाई व सूबे के वरिष्ठतम पत्रकार रहे स्व• ब्रजनंदन जी के तीसरी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि सभा में उन्हें नमन करते हुए कहा कि वे बिहार में पत्रकारिता के एक युग थे। उन्होंने कहा कि ब्रजनंदन जी अपने आप में मूल्यों के पत्रकारिता की एक सम्पूर्ण संस्था थे। श्री मल्लिक ने कहा कि ब्रजनंदन जी के लिए कोई कार्यक्रम का महत्त्व छोटा या बड़ा नहीं होता था और आयोजन स्थल पर जाकर रिपोर्टिंग करना उनके व्यक्तित्व की खासियत थी। उन्होंने कहा की ब्रजनंदन जी हमेशा समय से पहले संवाददाता सम्मेलनों या अन्य कार्यक्रमों में पहुंच जाते थे और अक्सर आगे की सीट पर बैठ बड़ी बेबाकी से सवाल जरूर पूछते थे और ऐसे सवाल पूछते थे जिनसे अक्सर वे ख़ास खबरें बन जाती थी। श्री मल्लिक ने कहा कि आज वो हमारे बीच नहीं हैं, इसका दुःख राजनीति और सामाजिक क्षेत्र के आम एवं ख़ास सभी लोगों को है। 

श्रद्धांजलि सभा की अध्यक्षता ब्रजनंदन बाबू एक विचार के संयोजक सह राजद के प्रदेश सचिच प्रमोद कुमार सिन्हा ने करते हुए कहा की लंबे समय तक पत्रकारिता करने वाले ब्रजनंदन जी की लेखनी के सभी कायल थे। उन्होंने कहा की कई दशकों तक उन्होंने राज्य व समाज की समस्याओं को बड़ी बेबाकी से किसी से प्रभाबित हुए बिना अपनी लेखनी में शामिल किया। श्री सिन्हा ने कहा की आज के युवा पत्रकारों के लिए प्रेरणास्रोत ब्रजनंदन बाबू आजीवन सादा जीवन व उच्च विचार के प्रतीक थे। उन्होंने कहा की साधारण पृष्ठभूमि वाले सामाजिक व राजनीतिक कार्यकर्ताओं को अपनी लेखनी में सदैव प्रमुखता देकर उनका उत्साह बढ़ाते रहते। संचालन करते हुए अधिवक्ता अमिताभ ऋतुराज ने कहा कि उच्च कोटी की ईमानदार पत्रकारिता आज भी प्रसांगिक है। कार्यक्रम मे श्रद्धांजलि अर्पित करने वाले लोगों मे जे पी सेनानी कुमार अनुपम, अरबिन्द सिन्हा, सिद्धार्थ, अरूण कुमार यादव, ईकबाल अहमद, मनोज कुमार सिन्हा, जितेन्द्र शर्मा, शिवेन्द्र ताँती, कुमार सुन्दरम, जेम्स यादव, अधिवक्ता पंकज सिन्हा, अधिवक्ता सुशील रंजन, अजय यादव, बड़ेलाल यादव, संतोष कुमार, अधिवक्ता मोहन नंदन प्रसाद, विनोद यादव, शिवरात्रि चौधरी, निशेष निशांत, श्रैय मल्लिक, शशि कुमार, दिनेश राम सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

No comments