Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest






बिहार में जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर गए, मरीजों को परेशानी बढ़ी

पटना सिटी (न्यूज सिटी)। बिहार के सभी अस्पतालों के जूनियर डॉक्टर स्टाइपेंड बढ़ोतरी की मांग को लेकर आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। ज...


पटना सिटी (न्यूज सिटी)।
बिहार के सभी अस्पतालों के जूनियर डॉक्टर स्टाइपेंड बढ़ोतरी की मांग को लेकर आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। जिस वजह से सूबे के सभी अस्पताल में मरीजों की इलाज करने में समस्या उत्पन्न हो गई है। वही बिहार का दूसरा सबसे बड़ा अस्पताल नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भी यही हाल है। यहाँ पर कार्यरत जूनियर डॉक्टर आज सुबह से ही अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। जिससे आपातकालीन सेवा के साथ ओपीडी सेवा भी पूरी तरह से बाधित हो गई है। अब अस्पतालों में मरीजों का इलाज सिर्फ और सिर्फ सीनियर डॉक्टरों के भरोसे है। ऐसा ही हाल सूबे के बड़े अस्पताल पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल का है, जहाँ जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गये हैं। जिस वजह से यहाँ भी सुबह से मरीजों को इलाज के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा है। 

NMCH में परेशान मरीज फर्श पर लेटे हुए

मामले में जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन की ओर से नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल के डॉक्टर रामचंद्र ने बताया की बिहार सरकार द्वारा वर्ष 2017 में पीजी डॉक्टरों व छात्रों को स्टाइपेंड हर तीन वर्ष के अंतराल पर बढ़ाने का नियम बनाया गया था। जिसके बाबजूद भी वर्तमान समय स्टाइपेंड के रूप में पीजी डॉक्टरों को प्रतिमाह 50 से 60 हजार रुपये मिलते है। फिलहाल स्टाइपेंड की राशि मे बढ़ोतरी की मांग को लेकर पीजी डॉक्टरों में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को अवगत कराया था। इसके बाबजूद भी स्टाइपेंड में बढ़ोतरी नही कि गयी। जिसको लेकर बिहार में पीजी डॉक्टरों ने हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है।

No comments