Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest




 

सीएम ने राजधानी जलाशय का किया निरीक्षण, कहा - नई पीढ़ी को प्रकृति से जुड़ने का होगा एहसास

पटना (न्यूज सिटी)। आज मुख्य सचिवालय परिसर स्थित राजधानी जलाशय का भ्रमण कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वहाँ पाए जाने वाले वनस्पति और पक्षियों ...


पटना (न्यूज सिटी)।
आज मुख्य सचिवालय परिसर स्थित राजधानी जलाशय का भ्रमण कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वहाँ पाए जाने वाले वनस्पति और पक्षियों के बारे में विस्तृत जानकारी लिया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने 36 प्रकार के पक्षियों की प्रजाति को देखा। जिसमें कुछ प्रजाति प्रवासी पक्षियों की श्रेणी में आते हैं। लगभग 17 प्रजातियां जलीय तथा लगभग 18 प्रजातियां आसपास क्षेत्र के स्थलीय पक्षियों की श्रेणी में आते हैं। आपको बता दें कि मुख्य जलीय पक्षी प्रजातियों में लालसर, कुट, पिनटेल, गड़वाल, कॉम्ब डक एवं स्थलीय पक्षी में ट्रिपाई, कोयल, धनेश, रौलर इत्यादि पाई जाती है। प्रवासी प्रजाति पक्षियों में लेसर व्हीसलिंग डक, फेरोजीनस डक, कॉरमोरंट, मुरहेन, गडवाल आदि प्रमुख है। 


यहां पक्षियों के अधिक से अधिक जमावड़े के लिए अंश विधाओं के साथ-साथ भोजन के रूप में मछली, कीड़े, जलीय पौधे, गीली घास एवं अन्य चीजें उपलब्ध है। शहर की घनी आबादी के बीच यह नैसर्गिक स्थल बन गया है। वन विभाग द्वारा राजधानी जलाशय का प्रबंधन किया जा रहा है। यहां पर पुराने कैंटीन की जगह भव्य बिल्डिंग में पक्षियों पर इंटरप्रिटेशन केंद्र विकसित किया जाएगा। मुख्यमंत्री राजधानी जलाशय के उन्नयन के पश्चात किए गए कार्यों की भी जानकारी ली। इस दौरान राजधानी जलाशय के पास अधिक से अधिक संख्या में पक्षियों के क्रियाकलापों को देखकर वे आनंदित हुए। 


भ्रमण के दौरान पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पिछली बार दिसंबर में जब हम यहां आए थे तो उस दौरान कहा था कि यहां आने वाले समय में काफी संख्या में पक्षियों का आगमन होगा। आज मुझे यहां काफी संख्या में पक्षियों को देख कर खुशी हो रही है। उन्होंने कहा कि हम लोगों ने इस जलाशय का नाम "राजधानी जलाशय" दिया था। पर्यावरण के दृष्टिकोण से इस जलाशय को विकसित किया गया है। अब यहां काफी सुंदर दिख रहा है। पक्षियों का कलरव बहुत ही अच्छा लग रहा है। राजधानी जलाशय का निर्माण स्कूली बच्चों के लिए किया गया है। यहां 04 जनवरी के बाद से 20-20 स्कूली बच्चों को ग्रुप में गाइड के साथ लाकर भ्रमण कराया जाएगा। साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों के भ्रमण को दौरान पक्षियों को कोई दिक्कत नही हो इस बात का भी पूरा ख्याल रखा जाएगा। उन्होंने ने कहा कि नई पीढ़ी को प्रकृति से जुड़ने का एहसास होना चाहिए। बच्चे यहां पर आकर प्रकृति से जुड़ी हुई सारी चीजों को देखेंगे, जिससे उनके ऊपर व्यापक असर दिखेगा। उनकी रूचि प्राकृतिक जैव विविधता और पक्षियों के प्रति संवेदनशीलता को लेकर बढ़ेगी। 


भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री के साथ डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद, जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के प्रधान सचिव दीपक कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा एवं अनुपम कुमार, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, जिलाधिकारी कुमार रवि सहित अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित रहे।

No comments