Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest




 

छिजनग्रस्त बालिकाएँ दसवीं की परीक्षा देकर हुई अति उत्साहित

पटना सिटी (न्यूज सिटी)। "प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन" द्वारा संचालित सेकंड चांस कार्यक्रम के तहत कुल 103 बालिकाएं बिहार मुक्त विद्यालय ...


पटना सिटी (न्यूज सिटी)।
"प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन" द्वारा संचालित सेकंड चांस कार्यक्रम के तहत कुल 103 बालिकाएं बिहार मुक्त विद्यालय शिक्षण एवं परीक्षा बोर्ड के माध्यम से दसवीं की परीक्षा में शामिल हुई। ये बालिकाएं परीक्षा में सम्मिलित होते हुए सभी विषयों की सफलतापूर्वक परीक्षाएं देकर स्वयं के लिए काफी गौरवान्वित महसूस कर रही है। आज इन सभी बालिकाओं की बेसिक कंप्यूटर की अंतिम परीक्षा थी। परीक्षा केंद्र राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय, गर्दनीबाग, पटना था। लॉकडाउन में शिक्षण केंद्र बंद रहने के बावजूद भी स्वयंसेवी संस्था प्रथम के सहयोगी शिक्षकों के मार्गदर्शन में सभी बालिकाओं ने अपनी पढ़ाई को ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से जारी रखते हुए अपने लक्ष्य तक पहुंचने में अपना हौसला बनाए रखा। जिसका पूरा श्रेय वे अपने अभिभावक और प्रथम के सहयोगी शिक्षकों को देती हैं क्योंकि ये बालिकायें पढ़ाई को छोड़ें हुई थी। कही न कही इन बालिकाओं का रास्ता अवरुद्ध सा हो गया था। इस संस्था के सदस्यों के सहयोग द्वारा इन्हें मुख्य धारा से जोड़ते हुए इनको आत्मनिर्भर बनाने हेतु दसवीं परीक्षा की तैयारी करा कर बिहार मुक्त विद्यालय शिक्षण एवं परीक्षा बोर्ड के माध्यम से दसवीं की परीक्षा दिलाई गई। इसके अलावा यह बालिकाओं को प्रथम संस्था के क्षेत्रीय समन्वयक संजय कुमार और कार्यक्रम समन्वयक राजेश कुमार पाण्डेय द्वारा भी हर विपरीत परिस्थितियों में कदम-कदम पर साथ दिया जाता रहा है। 


ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान जिसके पास भी स्मार्टफोन की सुविधा नहीं थी। उसके लिए संस्था की ओर से टैब मुहैया करवाया गया ताकि बालिकाओं की पढ़ाई में कोई बाधा ना पहुंचे। अंतिम परीक्षा के दिन सभी बालिकाएं काफी खुश थी। क्योंकि अब उन्हें लगता है कि माध्यमिक परीक्षा में बेहतर परिणाम के बाद आगे की पढ़ाई पूरी करते हुए अपने सपनों को साकार कर पाएंगी और अपना भविष्य बेहतर कर सकेंगी। पढ़ाई छोड़ चुकी बालिकाओं को पुनः शिक्षित करने में कार्यक्रम के सभी सहयोगी शिक्षकों अमन कुमार, मो इमरान, रुचि गुप्ता, पवन कुमार मिश्रा, गौरव कुमार, नेहा श्री ज्ञान, खुशबू कुमारी, गौरव कुमार, रितिका वर्मा, गौरव कुमार, राहुल कुमार और उपेंद्र कुमार का मुख्य योगदान रहा।

No comments