Page Nav

HIDE

Breaking News:

latest

 









 

एनडीआरएफ तथा रेलवे द्वारा वृहद 'मॉक ड्रिल' का किया अभ्यास

पटना। आज 9वीं बटालियन, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) बिहटा, पटना तथा पूर्व मध्‍य रेलवे, दानापुर द्वारा रेल दुर्घटना के बाद किए जाने वाल...


पटना।
आज 9वीं बटालियन, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) बिहटा, पटना तथा पूर्व मध्‍य रेलवे, दानापुर द्वारा रेल दुर्घटना के बाद किए जाने वाली राहत और बचाव कार्य का वृहद संयुक्त मॉक ड्रिल दानापुर रेलवे स्टेशन के नजदीक, जिला - पटना में किया गया। ट्रेन दुर्घटना पर आधारित इस मॉक ड्रिल का उद्देश्य भारत सरकार तथा राज्य सरकार के अंतर्गत कार्यरत विभिन्न विभागों के बीच राहत व बचाव कार्य के दौरान कुशल समन्वय स्थापित करना है। 


सुबह 11:05 बजे दानापुर रेलवे स्टेशन पर अचानक अलार्म की आवाज गुंजने लगी जो किसी खतरे का संकेत था। थोडी देर में पता चला कि नजदीक ही कहीं रेल दुर्घटना हुई है। अलार्म बजते ही रेलवे कर्मचारी हरकत में आए और रेलवे द्वारा उद्धघोषणा किया गया कि दानापुर रेलवे स्टेशन के नजदीक एक ट्रेन दुर्घटाग्रस्त हुआ है जिसमे ट्रेन के डिब्‍बे एक-दुसरे के उपर चढ गये है ‍जिसमें 25 लोगो के फंसे होने एवं घायल होने की संभावना है। इसके तुरंत बाद ही रेलवे द्वारा राहत और बचाव कार्य शुरू किया गया। मॉक ड्रिल में दर्शाए गए घटनास्थल पर रेलवे की दुर्घटना राहत मेडिकल गाड़ी (Accident Relief Medical Van) रेलवे कर्मचारियों के साथ पहुंची। रेलवे के राहत व बचाव कार्मियों में रेलवे सुरक्षा बल के कार्मिक भी शामिल थे। 


रेलवे कंट्रोल रूम दानापुर द्वारा 9 वीं बटालियन एनडीआरएफ को सूचित किया गया और एनडीआरएफ टीम को भी राहत व बचाव कार्य के लिए बुलाया गया। कुछ ही देर बाद 9 वीं बटालियन एनडीआरएफ की एक खोज व बचाव टीम प्रथम चिकित्सा उपचारक, अत्याधुनिक उपकरणों के साथ दुर्घटना स्थल पर पहुंची। दुर्घटना स्थल का त्वरित मुआयना करने के बाद एनडीआरएफ की टीम ने दुर्घटना स्थल के नजदीक दुर्घटना कमांड पोस्ट, आपातकालीन ऑपरेशन सेंटर, मेडिकल प्राथमिक उपचार पोस्ट, प्लानिंग व लॉजिस्टिक अनुभाग, मीडिया सेंटर, कम्युनिकेशन सेंटर, वित्तीय व प्रशासनिक अनुभाग तथा अस्थाई शवगृह को स्थापित किया। इस क्रम में एनडीआरएफ की खोज व बचाव टीम ने दुर्घटनाग्रस्त ट्रेन से घायलों तथा मृतकों को अत्याधुनिक उपकरणों की सहायता से निकालने का अभ्यास किया। घायल यात्रियों को दुर्घटना स्थल के नजदीक स्थापित मेडिकल पोस्ट में प्राथमिक चिकित्सा उपचार देने का भी मॉक अभ्यास किया गया। इस रेलवे दुर्घटना के बाद राहत बचाव मॉक ड्रील में स्‍थानीय प्रशासन, रेलवे सुरक्षा बल, राज्‍य चिकित्‍सा सेवा, अग्नि शमन सेवा, स्‍काउट और गाइड के लोगो ने बढ-चढकर हिस्‍सा लिया और अपने कामों केा बखूबी अंजाम दिया। रेलवे दुर्घटना पर आधारित यह मॉक ड्रील श्री सुनील कुमार, डीआरएम पूर्व मध्‍य रेलवे, दानापुर तथा श्री हरविन्‍दर सिंह सेकेण्‍ड इन कमांड, 9 वीं बटालियन एनडीआरएफ के संयुक्त देखरेख में किया गया। 


श्री विजय सिन्हा, कमांडेंट, 9वीं बटालियन एनडीआरएफ ने बताया कि यह मॉक ड्रील इस वर्ष रेलवे डिवीजन दानापुर द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। कुशल आपदा प्रबंधन के लिए राहत और बचाव के दौरान कार्य करने वाली अलग-अलग एजेंसियों के बीच उचित समन्वय स्थापित करने के उद्देश्य से इस प्रकार का मॉक ड्रील का आयोजन उच्च मुख्यालय के दिशा निर्देशों पर किया जा रहा है । इस तरह का यह अभ्‍यास संबंधित विभागों/संगठनो को अपनी कुशलता और तैयारी का जायजा लेने का भी मौका देता है और अभ्‍यास के दौरान सामने आई कमियों को पहचानकर समय रहते दूर किया जाता हैं ताकि इस प्रकार की दुर्घटना होने पर त्वरित करवाई कर जान माल के नुकसान को रोका जा सके अथवा कम से कम किया जा सके।

No comments